Skip to content

July 2021

स्वतंत्र भारत का एक ऐसा नरसंहार, जब मजदूरों ने अपनी मजूदरी मांगी तो जमींदारों ने जिंदा जला दिया।

माँ ओ ने अपने बच्चों को जलती झोपड़ी से बाहर इसलिए फेंका ताकि वो उनके साथ जलकर ना मरे। लेकिन जमींदारों ने उन बच्चों को दुबारा जलती आग में झोंक दिया। स्वतंत्र भारत का एक ऐसा नरसंहार, जब मजदूरों ने अपनी मजूदरी मांगी तो जमींदारों ने जिंदा जला दिया।

Last Updated on 6 months by Sandip wankhade यह घटना तब घटी, जब भारत में हरित क्रांति सफल हुई। हरित क्रांति के सफल होने से… Read More »माँ ओ ने अपने बच्चों को जलती झोपड़ी से बाहर इसलिए फेंका ताकि वो उनके साथ जलकर ना मरे। लेकिन जमींदारों ने उन बच्चों को दुबारा जलती आग में झोंक दिया। स्वतंत्र भारत का एक ऐसा नरसंहार, जब मजदूरों ने अपनी मजूदरी मांगी तो जमींदारों ने जिंदा जला दिया।

error: प्रिय पाठक ऐसे कॉपी ना करें डायरेक्ट शेयर करें नीचे सोशल मीडिया आइकॉन दिए हैं