Skip to content

क्या आपके मन मे भी यह सवाल आया है कि, बच्चा कैसे पैदा होता है (baccha kaise paida hota hai)

बच्चा कैसे पैदा होता है (Baccha kaise paida hota hai)
Rate this post

Photo credit – pixabay.com

बच्चा कैसे पैदा होता है (bacha kaise paida hota hai) bacha kaise hota hai| bachcha kaise paida hota hai|


बच्चा पैदा करने का सफर काफी उतार चढ़ाव से भरा होता है। इसके लिए कई शारीरिक और मानसिक कष्ट उठाने पड़ते हैं। विज्ञान में बच्चे पैदा करने के कई तरीके मौजुद है। जैसे नॉर्मल, सिजेरियन, आईवीएफ, आईयूआई, सेरोगेसी आदी। आजकल इन सभी तरीकों का प्रचलन काफी बढ़ा है। वर्तमान में नार्मल डिलीवरी बहुत कम हो रही है। जो कपल पहली बार बच्चे का प्लान बना रहें हैं। उनके दिमाग में यह सवाल अक्सर आता है कि, बच्चा कैसे पैदा होता है (bacha kaise paida hota hai) इस लेख में हम उन सभी तरीकों के बारे में जानेंगे कि, बच्चा कैसे पैदा होता है (bachha kaise paida hota hai) आइए जानते हैं।

1) नॉर्मल डिलीवरी से बच्चा कैसे पैदा होता है (normal delivery se bacha kaise paida hota hai)

यह एक नैसर्गिक तरीका है तथा पुराना भी। जब विज्ञान का ज्यादा विकास नहीं हुआ था, तब बच्चे ऐसे ही नॉर्मल डिलीवरी से पैदा हुआ करते थे। यह बच्चा पैदा करने का एक दिलचप्स तरीका है। इसमें योनी द्वारा बच्चे का जन्म होता है। इस डिलीवरी प्रक्रिया में तीन चरण पाए जाते है।

✓ गर्भाशय ग्रीवा का सिकुड़ना और खुलना।

✓ बच्चे का जन्म।

✓ नाल की डिलिवरी।
आपको बता दें कि, नॉर्मल डिलीवरी से जब बच्चा पैदा होता है, तब पहले चरण में माँ को सबसे ज्यादा दर्द होता है और यह चरण सबसे लंबा होता है। इस चरण को पुरा होने में महिला को 12 से 19 घंटे का समय लगता है। इसके अलावा दूसरा चरण भी काफी तखलीफ भरा होता है। लेकिन यह पहले चरण से काफी छोटा होता है। यह चरण (दूसरा) 20 मिनट से 2 घंटे का होता है। तथा अंत में जो तीसरा चरण आता है वह 5 मिनट से 30 मिनट तक का होता है।

नॉर्मल डिलीवरी मे पाया गया है कि, 96 प्रतिशत बच्चे ऐसे होते है। जिनका माँ के पेट से बाहर आने तरीका सिर से शुरू होता है। अर्थात पहले सीर बाहर आता है। हालाकी दुनिया में केवल 4 प्रतिशत ही मामले ऐसे होते है।  जिनमें बच्चे के पहले पैर बाहर आते है। जिन बच्चों का जन्म पैर से होता है उन्हे विज्ञान की भाषा में “ब्रीच” कहा जाता है। ऐसे बच्चों का धार्मिक महत्व भी काफी होता है।

2) ऑपरेशन से बच्चा कैसे पैदा होता है (operation se bacha kaise paida hota hai)

यह एक विज्ञान से जुड़ा तरीका है। इसके बारे में हर कोई जानना चाहता है कि, ऑपरेशन से बच्चा कैसे पैदा होता है? (Bacha kaise hota hai) आपको बता दें कि, जब माँं की नॉर्मल डिलीवरी प्रक्रिया संभव नहीं होती है, तब डॉक्टर इस तरीके को अपना कर बच्चे को दुनिया में लाते है। इस प्रकार के डिलिवरी में माँ के पेट को चीरा लगाकर बच्चे को गर्भाशय से बाहर निकाला जाता है। इस प्रक्रिया को आमतौर पर सिजेरियन डिलिवरी या सी-सेक्शन कहा जाता है।

Read this

👉 टॉप 10 बच्चा कैसे पैदा करे टिप्स (Top 10 bacha kaise paida kare tips)

👉 पहले जुड़वा बच्चे पैदा होना जादू टोना लगता था। लेकिन आज यह नॉर्मल है। पर क्या आप जानते है जुड़वा बच्चे कैसे पैदा होते है?

3) आईवीएफ से बच्चा कैसे पैदा होता है (IVF se bacha kaise paida hota hai)

आजकल इस प्रक्रिया का प्रचलन काफी बढ़ा है। आपने भी इस आईवीएफ प्रक्रिया के बारे में कभी ना कभी जरूर सुना होगा। लेकिन आपको पता नहीं है कि, आईवीएफ बच्चा पैदा करने की प्रक्रिया असल में कौनसी प्रक्रिया है इस प्रक्रिया के तहत बच्चा कैसे पैदा होता है। आपको बता दें कि, जीन महिलाओं को प्रेग्नेंट रहने मे कई दिक्कतें आती है। वे इस प्रक्रिया के तहत अपना सपना पूरा कर सकते हैं। यह काफी प्रभावी प्रक्रिया है। यह आमतौर पर एक “सहायक प्रजनन तकनीक” हैं। इस प्रक्रिया के तहत भ्रूण गर्भाशय में नही बल्कि लैब में बनता है।

आपको बता दें कि, इस प्रक्रिया में महिला के अंडे को लैब में फर्टिलाइज किया जाता है और बाद में उस फर्टिलाइज किए गए अंडे को महिला के गर्भाशय में दाखिल करके बच्चे को तयार किया जाता है।

आपको बता दें कि, जब अन्य मेडिकल उपचार महिला को गर्भवती होने में मदद नही करते हैं। या फिर हम कह सकते हैं कि, महिला के गर्भवती होने के जब सब तरीके असफल होते है, तब इस प्रक्रिया को किया जाता है। इस प्रक्रिया में महिला की गर्भवती होने की संभावना काफी अधिक होती हैं।

अब आपके दिमाग में यह सवाल जरुर उठता होगा कि, डॉक्टर ये कैसे करते हैं।। आपको बता दें कि, इस प्रक्रिया में डॉक्टर एक डिवाइस लगी हुई सुई को महिला के योनी के माध्यम से उसके गर्भाशय डालता है और कई अंडो को उस डिवाइस की मदद से बाहर निकालता है। इसके बाद उन तमाम अंडो में से कुछ स्वस्थ अंडो को अलग कर लिया जाता है। (अगर महिला के अंडे स्वस्थ नहीं है तो, इस प्रक्रिया के लिए कपल से पूछकर अन्य महिलाओं के अंडों का इस्तेमाल किया जाता है)  इसके बाद इन इकट्ठा किए गए स्वस्थ अंडो को लैब में पुरूषों के शुक्राणु के साथ एक नियंत्रण कक्ष में रखा जाता है। यह प्रक्रिया लगभग कुछ घंटों की होती है। जब शुक्राणु अंडो में प्रवेश कर जाते है और जब उसका भ्रूण बनता है, तब उस भ्रूण को डॉक्टर, महिला के गर्भ में दाखिल कर देते हैं। इस पुरे प्रक्रिया को आईवीएफ तकनीक कहा जाता है। यहां भी गौर करने वाली बात यह है कि, अगर पुरूष के शुक्राणु अंडे को फर्टीलाइज करने में सक्षम नहीं होते है, तो डॉक्टर शुक्राणु को डायरेक्ट अंडे मे दाखिल कर देते हैं और जब अंडा फर्टीलाइज होता है और उसका भ्रूण बनता है, तब डॉक्टर उस भ्रूण को महिला के गर्भ में दाखिल कर देता हैं।

4) आईयूआई से बच्चा कैसे पैदा होता है (IUI se bacha kaise paida hota hai)

इस प्रक्रिया को आईयूआई प्रक्रिया, दाता गर्भादान प्रक्रिया, वैकल्पिक गर्भदान प्रक्रिया आदी कहा जाता है। इस प्रक्रिया में डॉक्टर पुरूष के शुक्राणु में से उन शुक्राणु को अलग करते हैं, जो अन्य की तुलना में काफी स्वस्थ होते है। इन स्वस्थ शुक्राणुओं को डॉक्टर एक डिवाइस के मदद से महिला के गर्भाशय में दाखिल करते हैं। जिससे शुक्राणुओं का और महिला के अंडों का मिलन आसान हो जाता है। शुक्राणुओं को अंडे तक पहुंचने में ज्यादा कसरत नही करनी पड़ती है और महिला आराम से प्रेंगनेट हो जाती है।

यह प्रक्रिया बाकी प्रक्रियाओं से काफी स्वस्थ होती हैं। हालाकी इसके सफलता की बात की जाए तो, यह अलग अलग महिला में अलग अलग होती हैं।

5) मिटिंग से बच्चा कैसे पैदा होता है (meating se bacha kaise paida hota hai)

आपको बता दें कि, एक महिला अपने पुरे एक वर्ष में लगभग 400 अंडो को रिलीज करती है। जबकि पुरूष का शरीर लाखों शुक्राणुओं को रिलीज करता है। आपको बता दें कि, अंडे के रिलीज होने के स्थिती को ही ओव्यूलेशन कहा जाता है। जब ओव्यूलेशन होता है, तब महिला के अंडे केवल 24 घंटे तक ही जीवित रहते हैं। अगर इन 24 घंटो के भीतर पुरूष के शुक्राणु अंडे तक पहुंच जाते है और अंडे को फर्टीलाइज कराते हैं, तभी गर्भधारणा होती हैं।

लेकिन अंडे का पुरुष के शुक्राणु द्वारा फर्टीलाइज करना ही गर्भधारणा के लिए जरूरी नहीं है। आपको बता दें कि, जब तक भ्रूण महिला के गर्भाशय की दीवार से नही जुड़ता है, तब तक महिला की गर्भवती होने की संभावना कम ही होती है। इस पुरे प्रक्रिया को इम्प्लानटेशन कहते हैं।

आपको बता दें कि, इस इम्प्लानटेशन की तारीख को बता पाना आजतक विज्ञान को भी संभव नहीं हो पाया है। इसलिए डॉक्टर गर्भावस्था को कैलकुलेट करने के लिए मासिक धर्म के तारीख को पकड़कर गर्भावस्था के टाइम का कैलकुलेशन करतें है।

डॉक्टरों का इस बारे में कहना है कि, यह पूरी प्रक्रिया, महिला के मासिक धर्म के दो सप्ताह बाद होती हैं। ऐसा ज्यादातर बार देखा गया है।

लड़का पैदा होगा या लड़की ये कैसे पता चलता है (ladka paida hoga ya ladki kaise pata chalta hai)

हमारे समाज में यह मान्यता है कि, लड़का पैदा होगा या लड़की, ये महिला तय करती है। हमेशा महिला को ही दोष दीया जाता है। लेकिन विज्ञान ने अब यह स्पष्ट कर दिया है कि, लडका पैदा होगा या लड़की ये पुरुष तय करता है। पुरुष के स्पर्म तय करते हैं। ना की महिला।

आपको बता दें कि, महिला में जो अंडे होते है वो सभी x,x होते है। तथा पुरुष शुक्राणु x,y होते है। अगर महिला के अंडे को पुरुष का x स्पर्म फर्टीलाइज करता है तो, लड़की पैदा होती हैं और यदि y स्पर्म अंडे को फर्टीलाइज करता है तो, लडका पैदा होता है। अर्थात बच्चा कोनसा पैदा होगा, लड़का या लड़की यह महीला नही बल्कि पुरुष तय करता है।

अब आप समझ गए होगे कि, बच्चा कैसे पैदा होता है। अब आपके दिमाग में यह भी सवाल आ रहा होगा कि, जब बच्चा पैदा होता है, तब महिला को कीतना दर्द होता है? आइए जानते हैं इस सवाल का भी जवाब।

जब बच्चा पैदा होता है तो कितना दर्द होता है? (Jab bachha paida hota hai toh kitna dard hota hai)

जब बच्चा पैदा होता है तो कितना दर्द होता है? इसके बारे में डॉक्टर और विशेषज्ञ तथा वैज्ञानिक बताते हैं कि, महिला को बच्चा पैदा होते वक्त 57 डेल जितनी तपलीफ होती हैं। आम भाषा में समझे तो, व्यक्ती की एक साथ 20 हड्डियां टूटने पर जितना दर्द होता है, उतना दर्द एक महिला को बच्चा पैदा करते वक्त होता है। अगर सहनशीलता की बात की जाए तो, महिला में दर्द सहने की क्षमता पुरुष के मुकाबले में ज्यादा होती हैं। पुरुष केवल 45 डेल तक ही दर्द को सह सकता है। इससे ज्यादा दर्द पुरुष नही सह सकता है। अगर इससे ज्यादा दर्द पुरुष को दिया जाए तो, पुरुष की मौत भी हो सकती है।

आशा करता हू आपको bacha kaise hota hai यह जानकारी उपयोगी लगी होगी। अगर आपको इसमें कुछ गलत जानकारी मिलती है तो, हम उसके लिए क्षमाप्रार्थी हैं। आप अपने सुझाव हमे कमेंट बॉक्स में दे सकते हैं।

नोट – यह लेख zealthy.in पर मिले लेख पर आधारित है। ज्यादा जानकारी के लिए आप इस साईट पर विजिट करें।

Tag

बच्चा कैसे पैदा होता है (bacha kaise paida hota hai) bacha kaise hota hai| bachcha kaise paida hota hai| bacha paida kaise hota hai|

Spread the love

2 thoughts on “क्या आपके मन मे भी यह सवाल आया है कि, बच्चा कैसे पैदा होता है (baccha kaise paida hota hai)”

  1. आपके द्वारा दी गई जानकारी मुझे पसंद आई मेरा एक सवाल है शादी की सही उम्र क्या है? प्लीज जबाब जरुर दें

    1. पोस्ट पढ़ने के लिए आपका शुक्रिया। आपके सवाल का जवाब एक विस्तृत जानकारी के साथ बहुत जल्द ही दूंगा। 🙂👍🙏

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!