Skip to content

उड़ते हैं फिर भी चमगादड़ को जंतु जगत में क्यों रखा गया है (chamgadad ko jantu jagat mein kyon rakha gaya hai)

4.4/5 - (8 votes)

चमगादड़ को जंतु जगत में क्यों रखा गया है| Why are bats placed in the animal world? (chamgadad ko jantu jagat mein kyon rakha gaya hai)


जब से कोरोना नाम की बीमारी दुनिया में आई है, तब से चमगादड़ काफी चर्चा में आया है। चमगादड़ एक उड़ने वाला जीव होने के कारण हर कोई इसे पक्षी प्रजाति का एक जीव मानता है। लेकिन आपको बता दें कि, चमगादड़ भले ही एक उड़ने वाला जीव है। लेकिन वहां पक्षी नहीं है। बल्कि चमगादड़ एक स्तनधारी जीव या जंतु है। आपके मन में फिर यह भी सवाल उठ रहा होगा कि, चमगादड़ को जंतु जगत में क्यों रखा गया है? ऐसी क्या वजह थी। आइए जानते हैं।

चमगादड़ को जंतु जगत में क्यों रखा गया है? इसके कुछ निम्नलिखित कारण है जिसके चलते चमगादड़ को जंतु जगत में रखा गया है।

1) आप तो जानते ही है कि, दुनिया में दो प्रकार के जंतु पाए जाते हैं। एक बच्चों को जन्म देने वाले जंतु तथा दूसरे पक्षियों के भांति अंडे देने वाले जंतु। जो जंतु बच्चे देते हैं, उन्हें स्तनधारी जंतु कहां जाता है। तथा जो जंतु अंडे देते हैं, उन्हें अंडप्रजक जंतु कहां जाता है। चमगादड़ भले ही पक्षियों के भांति उड़ते होंगे। लेकिन वह अंडे नहीं देते हैं। बल्कि सीधे बच्चों को जन्म देते हैं। यही कारण है, जिसके चलते चमगादड़ को जंतु जगत में रखा गया है।

2) चमगादड़ को जंतु जगत में क्यों रखा गया है? इसकी एक और वजह है बाल। जी हां दोस्तों! आपने देखा होगा कि, पक्षियों के शरीर पर बाल नहीं होते हैं। बल्कि पर होते हैं। चमगादड़ के शरीर पर पर अर्थात पंख ना होते हुए स्तनधारी जंतुओं की तरह बाल होते हैं। यही कारण है कि, चमगादड़ को जंतु जगत का जीव माना गया है।

3) चमगादड़ को जंतु जगत में रखने का एक और कारण यह है, चमगादड़ के कान। जी हां! चमगादड़ के कान स्तनधारी जंतु जगत की तरह ही बाहर होते हैं  इसलिए चमगादड़ को जंतु जगत में रखा गया है।

4) आपको बता दें कि, चमगादड़ को जंतु जगत में रखने का एक और कारण है, दुग्ध ग्रंथियों का उनमें होना। आपको बता दें कि, चमगादड़ बाकी स्तनधारी जीवो की तरह ही अपने बच्चों को दूध पिलाते हैं। जिस कारण चमगादड़ को जंतु जगत में रखा गया है।

5) इसके अतिरिक्त चमगादड़ को जंतु जगत में रखने की कई सारी वजह है। जैसे चमगादड़ के आंतरिक एवं बाह्य लक्षण सबसे ज्यादा जंतु जगत के लक्षण प्रतीत होते हैं। जिस कारण चमगादड़ को जंतु जगत में रखा गया है।

आशा करता हू, अब आपको पता चल गया होगा कि, चमगादड़ पक्षियों के भांति उड़ने वाले जीव होने पर भी उन्हे जंतु जगत में क्यों रखा गया है। यदि यह जानकारी आपको अच्छी लगी तो, इसे जरूर रेटिंग दे और हो सके तो, इसे अपने दोस्तों से भी शेअर करे।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!