Skip to content

दुनिया की एक ऐसी नदी जिसका पाणी 80 डिग्री सेल्सियस तक हमेशा उबलता रहता है। वैज्ञानिक भी आज तक इस रहस्यों को सुलझा नहीं सके।

Rate this post
अमेजन की उबलती नदी – फोटो : Social media

एमेजॉन दुनिया का सबसे बड़ा रहस्यों से भरा एक जंगल। इसी जंगल को दुनिया का सबसे बड़ा जंगल भी कहा जाता है। यह जंगल जितना बड़ा है, उतना ही यह अनेकों भयानक रहस्यों से भरा पड़ा है। आपको बता दें कि, अरबों एकड़ में फैला यह जंगल इतना बड़ा है कि, यह अकेला ही तकरीबन नौ देशों के सीमाओं को टच करता है। इस जंगल का एक और सत्य यह है कि, इस जंगल में आज भी कुछ ऐसे जीव जंतु पाए जाते है, जिनके बारे में आज तक दुनिया को कुछ भी मालूम नहीं था। साल दर साल हमेशा इस जंगल में से नए नए जीवों के बारे में जानकारी दुनिया के सामने आती रहती है। एमेजॉन इतना घना और इतना भयानक है कि, कोई भी व्यक्ति इस जंगल के अंदर तक जाने से पहले दस बार सोचता है। क्युकी इसके ज्यादा अंदर तक जाने के बाद वह जिन्दा वापस आएगा की नहीं इसकी कोई गारंटी नहीं है। यह जंगल घना होने के कारण, एक भूलभुलिया जैसा है। जिस कारण इसके ज्यादा अंदर जानें के बाद वापस बाहर निकल पाना लगभग चुनौती पूर्ण बन जाता है।

इसी जंगल में एक रहस्यमयी नदी की खोज साल 2011 में हुई है। जिसका पाणी हमेशा उबलता रहता है। आपको बता दें कि, पेरू में मौजूद यह नदी वर्तमान में दुनिया के सबसे बड़े रहस्यों के तौर जानी जाती है। जिसका रहस्य आज तक वैज्ञानिक नही सुलझा पाए हैं।

इस नदी की खोज दुनिया के जाने माने भूवैज्ञानिक आंद्रे रूजो ने साल 2011 में की थी। जिसे आज “मयानतुयाकू” नाम से जाना जाता है। यह नदी लगभग एक मील लंबी है। आंद्रे रूजो ने इस रहस्यमयी नदी के बारे में अपनी किताब में विस्तृत से बताया हुआ है।

आंद्रे रूजो ने बताया है कि, जब वे छोटे थे, तब वे ऐसे ही काल्पनिक नदियों की कहानियां हमेशा सुना करते थे। तब उन्हे इस बात का बिलकुल भी अहसास नहीं था कि, ऐसी नदिया सच में भी होती है।

आंद्रे रूजो ने बताया है कि, वे ऐसी काल्पनिक नदियों के बारे में हमेशा सुना करते थे। लेकिन जब वे बड़े हुए, तब भी उनके दिमाग में इन काल्पनिक नदियों की कहानियां फिट थी। इन कहानियों में सबसे ज्यादा खयाल मे रहने वाली कहानी उबलती हुई नदी की कहानी थी। वे हमेशा इस नदी के बारे में सोचते रहते थे कि, क्या सचमे ऐसी नदी दुनिया में होगी।

इन काल्पनिक नदियों के बारे में वे हमेशा पुष्टि करते रहते थे। वे कॉलेज में अपने दोस्तों और बाकी सहयोगियों से हमेशा इस बारे में चर्चा करते थे। यहां तक की वे इस प्रकार की नदी क्या वाकई में होंगी। इसको जानने के लिए वे हमेशा अलग अलग देशों में भी जाते थे। ताकि कुछ ना कुछ पता चल सके।

आंद्रे रूजो का कहना है कि, वे तेल, गैस और बाकी प्राकृतिक संसाधनों का खनन करने वाली कंपनियों के लोगों से भी मिले थे और उनसे भी उन्होंने जानने की कोशिश की कि, क्या उन्होंने कभी कही इस प्रकार की नदी देखी है। जिसका पाणी हमेशा से गरम रहता हो। इस सवाल का जवाब उन्हे हमेशा ना मे ही मिलता था।

और दूसरी बात यह है कि, वैज्ञानिक तौर पर भी ऐसी नदी मिलना या मौजूद होना बिलकुल भी संभव नहीं था। वैज्ञानिकों के अनुसार किसी नदी का पानी तभी हमे उबलता हुआ मिल सकता है, जब उस नदी के आसपास कोई सक्रीय ज्वालामुखी मौजूद हो।

इसी असमंजस की स्थिती में आंद्रे रुजो एक बार एमेजॉन के जंगल में घूमने पहुंचे। जहा उन्हे उनकी वही नदी मिली। जिसकी कहानी वो बचपन से सुना करते थे और बड़े होने के बाद भी वे जिसे खोज रहे थे।

आंद्रे रुजो ने पाया था कि, आखिर कार वे ऐसी नदी खोजने मे जरूर सफल हुए। जिसका पाणी रहस्यमयी तरीके से उबल रहा था।

आंद्रे रूजो ने अपनी किताब में इस नदी के बारे में बताया हुआ है कि, उसका पाणी इतना गर्म है कि, हम और आप उस पाणी से चाय तक बना सकते हैं।

दुनिया की एक ऐसी नदी जिसका पाणी 80 डिग्री सेल्सियस तक हमेशा उबलता रहता है। वैज्ञानिक भी आज तक इस रहस्यों को सुलझा नहीं सके।

मयानतुयाकू उबलती हुई नदी- फोटो : Social media

अपने किताब में उन्होंने बताया कि, उन्होंने खुद नोटिस किया कि, नदी का पानी इतना गर्म है कि, अगर कोई इंसान या कोई और जीव अगर इस नदी के पाणी मे गीर जाता है, तो यकीनन वह जल्द ही मर जाएगा। अपने इस दावे को मजबूत बनाने के लिए उन्होंने किताब में आगे बताया कि, उन्होंने खुद उनकी आंखों से देखा है कि, जब पाणी मे आस पास के छोटे जीव गिर जाते थे, तब वे तुरंत ही मर जाते थे। उनके अनुसार इस नदी का पानी तकरीबन 80 डिग्री सेल्सियस तक गर्म रहता है। जिससे हमेशा भाप बाहर ऊपर की ओर जाते दिखती है।

आंद्रे रूजो के इस अनोखी खोज पर पहले किसी को भी यकीन नहीं आ रहा था। लेकिन जब वैज्ञानिकों की एक टीम उस नदी को देखने के लिए जब वहा पहुंची, तब वे भी इस नदी के अनोखे रहस्य को देखकर हक्के बक्के रह गए। इसके बाद नदी के रहस्य को सुलझाने के लिए नदी के पास वैज्ञानिकों का आना जाना चालू हुआ। लेकिन अफसोस की बात यह है कि, वैज्ञानिक आज तक भी नदी के इस रहस्य को उजागर नहीं कर पाए।

मयानतुयाकू नदी का यह रहस्य वैज्ञानिकों के लिए आज भी एक पहेली बना हुआ है। लेकिन वैज्ञानिक इस पर रिसर्च कर रहे हैं और पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि, आखिर ऐसी क्या वजह है कि, इस नदी का पानी हर मौसम में उबलता रहता है।

यह भी पढ़े :-

स्वर्णरेखा, झारखंड की एक सोना उगलने वाली नदी। जिसका रहस्य आज तक नही सुलझा सके वैज्ञानिक।

दुनिया का एक ऐसा गांव, जहा की लड़कियां युवावस्था में आने के बाद बन जाती है लड़का

दोस्तो यह थी उबलने वाले नदी की पूरी कहानी। कैसी लगी हमे कमेंट करके जरूर बताए।

 

Spread the love

2 thoughts on “दुनिया की एक ऐसी नदी जिसका पाणी 80 डिग्री सेल्सियस तक हमेशा उबलता रहता है। वैज्ञानिक भी आज तक इस रहस्यों को सुलझा नहीं सके।”

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!